Aashram Web Series - बॉलीवुड जिहाद का एक और उदाहरण

आमिर खान की PK मूवी को अपार सफलता दिलवाने के बाद हिन्दुओ को होश आया की किस तरह से उल्टा उन्ही के भगवान् शिव को अपमानित किया गया है। लेकिन यह काम बॉलीवुड वाले करते ही रहते हैं जिसमे कोई नयी बात नहीं है। लेकिन आज बात करते है वेब सीरीज की जो असल में "पोर्न फिल्मो" से कम नहीं होती।




आप गौर करेंगे की एकता कपूर की वेब सीरीज में भी इन्होने देश के जवानों को बदनाम करने की कोशिश की थी जिसका खामयाजा एकता कपूर को भुगदना पड़ा। इस बार "आश्रम" नाम की वेब सिरीज़ पर एक बार फिर जानबूझकर हिंदुओं की आस्था पर चोट करने का दुःसाहस बॉलीवुड वालों ने किआ है। 

चलिए पहले आपको बतातें है की Ashram Web Series की कहानी लिखने वाले महाशय कौन हैं;

इसकी कहानी लिखी है जनाब हबीब फैजल ने। खैर इससे आगे आप खुद समझ गए होंगे की कहानी किस प्रकार की होगी लेकिन फिर भी मैं अपने कुछ तथ्य आपके सामने प्रस्तुत करना चाहता हूँ। 

9 लाख से ज्यादा साधू संत आज भी पुराने वस्त्रों, जंगलों, मंदिरों और तीर्थस्थलों में एक छोटी सी कुटिया में पूरा जीवन मानव कल्याण की प्रार्थना हेतु। ये लोग न सैलरी मांगते है, न सब्सिडी, न आरक्षण और न ही सरकारी मदद मांगते है और न ही इनके पास बैंक बैलेंस है।

लेकिन फिर कुछ गिनती के 2-3 लोगों की वजह से समाज के सामने इनकी इमेज एक GodMan, ढोंगी, गैर कानूनी काम करने वाला, अय्याशी और नशेड़ी दिखाया जाता है। जबकि असल सच्चाई सब जानते हैं। 

इसके साथ साथ ये वेब सिरीज़ हिन्दुओं के धार्मिक चिन्हों, प्रतीकों, प्रतिमाओं और मंदिरों को Negative Shade में दिखाते है उनका अपमान करते है ताकि लोगों के मन में अपने ही आस्था के चिन्हों के प्रति हीन भावना पैदा हो।

अब देखने वाली बात यह है की हिन्दू समाज इसपर क्या एक्शन लेता है और कब यह उटपटांग लोग दूसरों की आस्था पर चोट करना बंद करेंगे।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां