Moksha Patam - जो वर्तमान में सांपसीढ़ी के नाम से जाना जाता है।

जानिये जिसे आप Ludo में Snakes & Ladders यानि सांपसीढ़ी के नाम से जानते है वो खेल पहले मोक्ष पाटम नाम से प्रसिद्ध था। पर अंग्रेज़ो के आने के बाद इसका नाम बदल दिए गया जोकि ज्यादातर भारतीय लोग अवगत नहीं है। तो आज हम बताएँगे की कौन था असली Founder of Snakes and Ladder Game.

13 वीं शताब्दी के कवि संत ज्ञानदेव ने मोक्ष पाटम नामक एक बच्चों का खेल बनाया। अंग्रेजों ने बाद में इसे सांप और सीढ़ी का नाम दिया और मूल मोक्ष पाटम के बजाय पूरे ज्ञान को पतला कर दिया।
मूल एक सौ वर्ग गेम बोर्ड में, 12 वां वर्ग विश्वास था, 51 वां वर्ग विश्वसनीयता था, 57 वां वर्ग उदारता, 76 वां वर्ग ज्ञान था, और 78 वां वर्ग तप था। ये वे वर्ग थे जहाँ सीढ़ी पाई जाती थी और कोई भी तेज़ी से आगे बढ़ सकता था। 41 वां वर्ग अवज्ञा के लिए था, घमंड के लिए 44 वां वर्ग, अशिष्टता के लिए 49 वां वर्ग, चोरी के लिए 52 वाँ वर्ग, झूठ बोलने के लिए 58 वाँ वर्ग, नशे के लिए 62 वाँ वर्ग, ऋण के लिए 69 वाँ वर्ग, क्रोध के लिए 84 वाँ वर्ग, लालच के लिए 92 वाँ वर्ग, अभिमान के लिए 95 वाँ वर्ग, हत्या के लिए 73 वाँ वर्ग और वासना के लिए 99 वाँ वर्ग।
ये वे वर्ग थे जहाँ साँप के मुँह खुलने का इंतज़ार किया जाता था। 100 वें वर्ग ने निर्वाण या मोक्ष का प्रतिनिधित्व किया।

Post a comment

0 Comments